Lonely poem। Raat tanhai ki

#mohabbattujhealvida #mohabbatein tanhai shayari rekhta tanhai shayari image tanhai shayari status tanhai akelapan shayari tanhai aur shayari alone tanhai shayari tanhai bhari shayari tanhai bewafa shayari tanhai sad shayari barish tanhai shayari www.tanhai shayari.com tanhai dard shayari dard e tanhai shayari gham e tanhai shayari tanhai famous shayari,tanhai ki raat,tanha,tanhayee,tanhai shayri,tanhai poetry,

जिंदगी की भीड़ में जाने क्यों तन्हाई सी छाई थी।
लगता था दिल को किसी की याद बहुत आई थी।।

यूं लगा जैसे कोई छू के गुजरा मुझे...।
देखी पलट के तो पीछे मेरी ही परछाई थी।।

बैठे-बैठे देखती रही मै आसमां को रात भर।
कितनी खूबसूरत तारों की चमक वहां छाई थी।।

चांद छुपा था बादल में फिर भी......।
जाने क्यों वह रात आंखों को बहुत भाई थी।।

हल्के हल्के हवा के झोंके जब भी चलते।
ऐसा लगा मुझे देख पतिया भी गुनगुनाई थी।।

वो अंधेरी रात जाने क्यों ऐसी थी यारों।
जो दिल में मेरे मोहब्बत फिर जगाई थी।।

सन्नाटा था चारों तरफ रास्ते भी थी सूने पड़े..।
फिर भी लगा दरवाजे पर दर्द की बारात आई थी।।

यह तो होना ही था एक दिन अपनी जिंदगी में।
दिल के आशियाने को मोहब्बत से जो सजाई थी।।

आंखें तो भर चुकी थी अश्कों की बूंदों से।
फिर भी जाने क्यों उस रात में मुस्कुराई थी। ।

उसकी चाहतो से तो आज भी भरा है दिल मेरा।
इसलिए उस रात भी मैं उसे भूल नहीं पाई थी।।

पाना चाहते थे दोनों साथ अपने इश्क की मंजिल।
लेकिन किस्मत ने ही लिखी अपनी जुदाई थी।।

*****

Comments

Popular Post

Love Doorie Shayari। door hote gye

Love lonely poetry। Mohabbat hai akelepan se

Dard shayari । Wo dard ki ghadi thi

Judaai poem। Kasam duriyo ki

2021 love poem। tum ho

Intezar poem । Mera Intejar

Best love poetry। Mohabbat likh rahi hu

Love poem। Intajar hota hai

Best Love Poetry 2021। Pyar ho jaye