एक परिंदा

आसमां बनके वो मेरी हिफाज़त करता है,
सलामत रहू मैं रब से इबादत करता है,
बरसता है मेरे हर दर्द पे मरहम की तरह,
जाने क्यों एक परिंदा मुझसे....
इतनी मोहब्बत करता है..!

आसूँ का एक कतरा....
ज़मीं पे न गिरने देता है,
हर बूँद को अपनी हथेली में थाम लेता है,
न जाने वो कैसा फरिश्ता है,
मुझे हँसाने की खातिर खुद रो देता है,
मेरे लिए वो खुद को भी खो देता है,
ऐसी वो मुझपे इनायत करता है,
जाने क्यों एक परिंदा मुझसे......
इतनी मोहब्बत करता है....!

दूर होकर भी दुरी का...
एहसास वो होने नही देता,
नींद भी आये तो वो सोने नही देता,
सुन कर उसकी बातें.....
होठों से मुस्कान हटती नही,
रूठ जाने पे वो ऐसी शरारत करता है,
जाने क्यों एक परिंदा मुझसे....
इतनी मोहब्बत करता है....!
                                   

Comments

Popular Post

Love Doorie Shayari। door hote gye

Love lonely poetry। Mohabbat hai akelepan se

Dard shayari । Wo dard ki ghadi thi

Judaai poem। Kasam duriyo ki

2021 love poem। tum ho

Intezar poem । Mera Intejar

Best love poetry। Mohabbat likh rahi hu

Love poem। Intajar hota hai

Best Love Poetry 2021। Pyar ho jaye